Karyayojna
सबका मालिक एक‌

ॐ साईं राम



मंदिर‌ परिवार की अगली कार्ययोजना :

"परोपकारम् इदं शरीरं "

श्री साईंधाम, सिराली परिवार‌ का उद्देश्य बाबा के चरित्र में बताये गये वाक्यों को सार्थक‌ करना है :‍-

1) बुजुर्ग अनाथों के लिए भोजन व आवास व्यवस्था,

2) समय समय पर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना,
(रक्तदान शिविरों का आयोजन आदि..)

3) राष्टीय स्तर के शिक्षण संस्थान का निर्माण करवाना,

4) भक्ति निवास एवं विशाल सत्संग हाल का निर्माण कराना,

5) वृक्षारोपण करवाना,

6) व्यसन छुडवाना,

7) मंदिर से 20 से 30 कि. मी. तक की दूरी तक श्री साईं सेवको के द्वारा जगह जगह प्याऊ खुलवाना |

 


" ग्यारह वचन‌ "

जो शिरडी मेँ आएगा,
आपद दूर भगाएगा ।

चढ़े समाधी की सीड़ी पर,
पैर तले दु:ख की पीड़ी पर ।

त्याग शरीर चला जाउंगा,
भक्त हेतु दौड़ा आउंगा ।

मन में रखना दृढ़ विश्वास,
करे समाधी पूरी आस ।

मुझे सदा जीवित ही जानो,
अनुभव करो सत्य पहचानो ।

मेरी शरण आ खाली जाए,
हो कोई तो मुझे बताए ।

जैसा भाव रहा जिस जन का,
वैसा रूप रहा मेरे मन का ।

आ सहायता लो भरपूर,
जो मांगा वो नहीं है दूर ।

भार तुम्हारा मुझ पर होगा,
वचन ना मेरा झूठा होगा ।

मुझ मे लीन वचन, मन, काया,
उस का रिण ना कभी चुकाया ।

धन्य धन्य वो भक्त अनन्य,
मेरी शरण तज जिसे ना अन्य ।
"स्तुति"

नमो जगगुरुम् ईश्वरम् साईंनाथम् ,
पुरुषोत्तम सर्वलोकम् प्रकाशम् !
चिदानंद रूपम् नमो विश्व आतम् ,
योगीश्वरम् करूणाकरम् साईंनाथम् !!
"दैनिक‌ कर्म‌"

काकड़ आरती (5:15 प्रात:काल)
माखन मिश्री का भोग‌
मंगल स्नान (अभिषेक)
बाल भोग(हलवा)(9:00 प्रात:काल)
श्रृंगार आरती(संक्षिप्त आरती)
विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ‌
साईं सच्चरित्र का पाठ
कनकधारा स्त्रोत का पाठ
श्री सुक्त पाठ
श्री पुरुषोक्त पाठ
भोग (गुरुवार को विशेष खिचड़ी)(12:00 मध्यान काल)
मध्यान आरती
धूप आरती (5:30 सायं काल सूर्यास्त के अनुसार)
दूध हलवे का भोग‌
भजन संगीत‌
भोग(सम्पूर्ण भोजन)
शेज आरती (10:00 रात्रि काल‌)