हमे‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ फॉलो करें 
सबका मालिक एक‌
ग्यारह वचन‌
जो शिरडी मेँ आएगा,
आपद दूर भगाएगा ।

चढ़े समाधी की सीड़ी पर,
पैर तले दु:ख की पीड़ी पर ।

त्याग शरीर चला जाउंगा,
भक्त हेतु दौड़ा आउंगा ।

मन में रखना दृढ़ विश्वास,
करे समाधी पूरी आस ।

मुझे सदा जीवित ही जानो,
अनुभव करो सत्य पहचानो ।

मेरी शरण आ खाली जाए,
हो कोई तो मुझे बताए ।

जैसा भाव रहा जिस जन का,
वैसा रूप रहा मेरे मन का ।

आ सहायता लो भरपूर,
जो मांगा वो नहीं है दूर ।

भार तुम्हारा मुझ पर होगा,
वचन ना मेरा झूठा होगा ।

मुझ मे लीन वचन, मन, काया,
उस का रिण ना कभी चुकाया ।

धन्य धन्य वो भक्त अनन्य,
मेरी शरण तज जिसे ना अन्य ।

ॐ साईं राम

All rights reserved © 2011 : Shri Sai Dham, Sirali
Mail us @ shrisaidhamsirali@gmail.com